भारतीय जन औषधि योजना
भारतीय जन औषधि योजना
Advertisement

देश मे बढ़ती हुई महँगाई के कारण गरीब लोग को अपने इलाज का खर्च उठाने मे माफी मुश्किल होती है। जिसके कारण वे अपना इलाज करवाने मे असमर्थ रहते है। इसका सबसे बड़ा कारण यह भी है कि मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली महंगी दवाई


यही कारण है कि लोग महंगी दवाइयों के खर्चे से इतना डर जाते हैं कि अपना इलाज तक नहीं करवाते हैं। जिसके कारण ये बीमारी धीरे धीरे एक बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है लोगों कि इस समस्या का समाधान करने के लिए सरकार द्वारा प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना की शुरुआत की गई है।

Advertisement

इस लेख मे हम आपको इसी योजना के बारे मे संपूर्ण जानकारी देने वाले है, ताकि देश के सभी गरीब लोगों को इसका लाभ मिल सके इस लेख मे हम आपको बताने वाले है कि प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि योजना क्या है। Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana Kya hai

Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana 2022

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना कि शुरुआत भारत सरकार के द्वारा 1 जुलाई 2015 को की गई थी। इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य उन लोगों को लाभ पहुँचना है जो अपने इलाज के लिए महंगी दवाइयों का खर्च नहीं उठा पाते है।

इस योजना की घोषणा देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की देख रेख मे की गई। इस योजना से न सिर्फ गरीब लोगों को फायदा मिलेगा, बल्कि इसका फायदा मध्यम वर्ग के लोगों को भी मिलेगा।

इस योजना के द्वारा लोगों को सस्ती दवाईयां प्रदान कि जाएगी। जिन्हे आप सरकार द्वारा शुरू किये गए अपने नज़दीकी जन औषधि केंद्र से आसानी से प्राप्त कर सकते है। इसलिए सरकार देश मे ज्यादा से ज्यादा जन औषधि केंद्र खोल रही है, जहां से जेनेरिक दवाईयां आम जनता को बेची जाएंगी। जिसके कारण इस योजना के तहत अब कोई भी गरीब व्यक्ति महंगी दवाइयों की वजह से अपना इलाज आसानी से करवा सकता है।

भारतीय जन औषधि स्टोर कौन खोल सकता है

  • भारतीय जन औषधि स्टोर खोलने के लिए देश का कोई भी नागरिक या किसी प्रकार कि संस्था आवेदन कर सकती है जैसे कि बिज़नेस मैन , अस्पताल, गैर सरकारी संगठन, फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर इत्यादि।
  • इस योजना के तहत औषधि स्टोर खोलने के लिए एससी, एसटी एवं दिव्यांग आवेदकों को सरकार द्वारा 50,000 रुपये तक के मूल्य की दवा एडवांस में दी जाएगी।
  • इस मेडिकल स्टोर को प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र के नाम से खोला जा रहा है,, जोकि एक सरकारी योजना के अंतर्गत आती है।

PMJAY के तहत आपको क्या लाभ मिलेंगे?

  • इस योजना के तहत लोगों को मिलने वाली दवाइयों पर प्रिंट कीमत का 20% तक का मुनाफ़ा मिलेगा।
  • अगर किसी गरीब मज़दूर को कोई बड़ी बीमारी है तो उसे इस योजना के तहत सरकार द्वारा दो लाख रुपये तक इलाज फ्री किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत खोले गए सभी जन औषधि केंद्र को 12 महीने की बिक्री पर 10% अतिरिक्त इंसेंटिव दिया जायेगा. हालांकि यह रकम अधिकतम 10000 रुपये हर महीने तक हो सकती है।
  • प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि योजना के तहत उत्तर पूर्वी राज्य, नक्सली प्रभावित इलाके, आदिवासी क्षेत्रों में यह इंसेंटिव 15% तक हो सकता है. लेकिन रुपये के संदर्भ में यह रकम अधिकतम 15000 रुपये हो सकती है।
  • इस योजना के तहत लोगों को उच्च क्वालिटी कि दवाईयाँ सस्ते दामों मे मिलेगी।
  • दवाओं पर जेब खर्च कम करने के लिए क्वालिटी जेनेरिक दवाओं के कवरेज का विस्तार करना और इस तरह प्रति व्यक्ति उपचार की इकाई लागत को फिर से परिभाषित करना।
  • जेनेरिक मेडिसीन को शिक्षा एवं प्रचार के माध्यम से उन दवाओं की जागरूकता पैदा करें ताकि क्वालिटी केवल ज़्यादा कीमत पर्याप्त न बने।
  • एक पब्लिक प्रोग्राम जिसमें सरकार, को-ऑपरेटिव क्षेत्र के उपक्रम, प्राइवेट क्षेत्र, सोसायटी, सहकारी निकाय और अन्य संस्थान शामिल हैं।
  • सभी चिकित्सीय श्रेणियों में जहां भी आवश्यक हो, कम उपचार लागत और आसान उपलब्धता के माध्यम से बेहतर स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच में सुधार करके जेनेरिक दवाओं की मांग पैदा करें।

इसे भी जरूर पढे : अगर आप अटल पेंशन योजना के बारे मे जानना चाहते हैं तो इस लिंक से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

आवेदन के लिए जरूरी कागज़ात

  • इस योजना के तहत औषधि स्टोर खोलने के लिए आपको आवेदन करते समय आपको आधार कार्ड और पेन कार्ड की कॉपी जमा करनी होगी।
  • अगर कोई गैर सरकारी संस्था या एनजीओ , फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर इत्यादि मे से कोई जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदन करता है तो उसे अपने आधार कार्ड और पैन कार्ड के अलावा संस्था सर्टिफ़िकेट एवं उसका रजिस्ट्रेशन सर्टिफ़िकेट की कॉपी भी जमा करनी होगी।
  • भारतीय जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आपके पास कम से कम 120 वर्गफीट की जगह होनी चाहिए, ताकि आपको दवाइयों को स्टॉक करनें मे किसी प्रकार कि कोई परेशानी न हो।

इसे भी जरूर पढे : प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का फायदा कैसे उठाए

Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana मे आवेदन कैसे करे

  • भारतीय जन औषधि योजना के माध्यम से अपना औषधि केंद्र शुरू करने के लिए आपको सर्वप्रथम 1 लाख रुपए की दवाइयाँ खरीदनी होगी। बाद में सरकार इसे रीइंबर्समेंट करेगी।
  • इसके अलावा औषधि केंद्र दुकान शुरू करने के लिए आपके पास औषधि रखने के लिए रैक, डेस्क , फ्रीज इत्यादि सामान खरीदने के लिए सरकार आपको 1 लाख रुपए तक की सहायता करेगी।
  • आपको जन औषधि केन्द्र खोलने के लिए रीटेल ड्रग सेल्स का लाइसेंस जन औषधि केंद्र के नाम से लेना होता है।
  • इसके अलावा आपके पास 120 वर्ग फुट की दुकान होनी चाहिए।
  • जन औषधि केन्द्र खोलने के लिए आप फार्म यहां से डाउनलोड कर सकते हैं।
  • फार्म को भरने के बाद आपको आवेदन ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर (एएंडएफ) के नाम से भेजना होगा।

इसे भी जरूर पढे : हेल्थ इंसयोरेंस पॉलिसी से जुड़ी कुछ गलत धारनाये जिनकी वजह से लोग हेल्थ इंसयोरेंस लेने से घबराते है।

निष्कर्ष

दोस्तों इस लेख मे हमने आपको गरीब लोगों के लिए सस्ती दवाइयों को लेकर केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई योजना के बारे मे जानकारी दी है ताकि लोगों को इस योजना के बारे मे पता चल सके और ज्यादा से ज्यादा लोग इस योजना का लाभ ले सके।

इस लेख मे हमने आपको बताया है कि भारतीय जन औषधि योजना क्या है ? Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana Kya Hai जन औषधि केन्द्र खोलने कैसे खोले pm jan aushadhi kendra kaise khole इत्यादि अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट मे बता सकते है और इस जानकारी को दूसरे लोगों के साथ भी शेयर करे ताकि उन्हे भी इसके बारे मे पता चल सके धन्यवाद

Join our Subscriber lists to get the latest news,updates and special offers delivered directly in your inbox

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here