पेंशन योजना, one rank one pension
Advertisement

आज हम आपको इस लेख में सरकार द्वारा शुरू की गई योजना वन रैंक वन पेंशन (One Rank, One Pension) के बारे संपूर्ण जानकरी देने वाले है, कि वन रैंक वन पेंशन योजना क्या है ,और यह योजना सरकार के द्वारा शुरू क्यों की गई है।इस योजना का लाभ किसी और कैसे मिलेगा। अगर आप भी इस योजना के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो इस लेख को पूरा पढ़े –

किसी सरकार  के द्वारा लगभग पिछले 40 वर्षो के बाद इस मुद्दे पर फैसला लिया गया है। पूर्व  रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने प्रेस कांफ्रेंस करके इस योजना की पूरी जानकारी दी है। उन्होने बताया कि पूर्व सरकार के पास वन रैंक वन पेंशन को लेकर कोई मजबूत रोड मेप नहीं था। जिसके कारण वे इस योजना को लागू नहीं कर पा रहे थे।  

Advertisement

शुरू मे इस योजना के लिए सरकार का बजट दस हजार करोड़ का होगा जो समय  के साथ बढ़ता जाएगा। जिसके कारण सरकार पर काफी बदलाव भी बढ़ेंगे, लेकिन यह एक काफी अहम मुद्दा हैं, जिस पर फैसला लेना काफी जरूरी था।

पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर द्वारा One Rank One Pension के बारे में प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कही गई बाते –

  • सरकार ने वन रैंक वन पेंशन को लागू करने का फैसला कर लिया है।  
  • इस योजना को जुलाई 2014 से लागू की जायेगी। एरियर 4 किश्तों में देने का ऐलान किया गया हैं।  
  • सरकार द्वारा पेंशन रिविसन की अवधि 5 वर्ष रखी गई हैं।
  • VRS अर्थात समय से पूर्व रिटायरमेंट लेने वाले सैनिक को वन रैंक वन पेंशन का लाभ नहीं मिल पाएगा।  
  • लेकिन VRS  मुद्दे को लेकर सरकार अभी भी विचार कर रही है और इसके लिए सरकार ने एक कमेटी बनाई है| जो इस मुद्दे पर सही जाँच करके अपना फैसला सुनाएगी।
  • शहीद होने वाले सैनिकों की विधवा पत्नियों को एक मुश्त पैसा दिया जायेगा .ताकि वे अपना जीवन अच्छे से गुजर सके।

एक रैंक पेंशन योजना क्या है ?

‘वन रैंक वन पेंशन‘ मतलब अलग-अलग समय पर रिटायर हुए एक ही रैंक के दो फौजियों को समान पेंशन देना।खासतौर पर जो सैनिक 2006 से पहले रिटायर हुए। वर्तमान समय में रिटायर होने वाले सेनिको को उनकी  रिटायरमेंट के समय के नियमों के हिसाब से पेंशन मिलती है। यानी जो लोग 25 साल पहले रिटायर हुए हैं, उन्हें उस समय के हिसाब से पेंशन मिल रही है जो बहुत कम होती है। जिसके कारण रिटायर हो चुके सेनिको को लिए एक रैंक पर एक पेंशन की राशि का प्रावधान किया गया है, वन रैंक वन पेंशन योजना का वास्तविक मतलब है की एक श्रेणी के सैनिक को एक पेंशन।

इसको और आसान भाषा में ऐसे समझते है 

मान लीजिए अगर कोई जनरल 2006 से पहले रिटायर हुए है तो उसकी पेंशन 30,300 रूपये है,, लेकिन अगर कोई कर्नल वर्तमान में रिटायर होता है, तो उसे पेंशन  के रूप में 34,000 रूपये मिलेंगे जबकि मेजर कर्नल से दो रैंक ऊपर का अधिकारी होता है।

इसका सबसे ज्यादा फायदा पूर्व सेनिको को मिलेगा हमारे देश में लगभग 25 लाख से ज्यादा रिटायर्ड सैनिक है।

इस योजना को इस प्रकार से बनाया गया है कि जो अफसर कम से कम 7 साल कर्नल की रैंक पर रहा हो तो उन्हें  भी समान रूप से पेंशन मिलेगी। ऐसे अफसरों की पेंशन 10 साल तक कर्नल रहे अफसरों से कम नहीं होगी, बल्कि उनके बराबर ही होगी।

One Rank, One Pension योजना का उद्देश्य

  • इस योजना को शुरू करने की मांग 2013 में की गयी और अंत में इस योजना को 1 जुलाई 2014 से लागू कर दिया गया।
  • अधिकारियों को आधार वर्ष के रूप में 1 अप्रैल 2014 और 2015 में वन रैंक वन पेंशन योजना की मान्यता मिली।
  • इस योजना  के अंतर्गत लगभग रिटायर हो चुके तीन लाख सैनिकों को लाभ मिलेगा।  
  • सैनिकों को बकाया राशि एक ही बार में मिल जाएगी।
  • वन रैंक वन पेंशन में  छमाही किश्तों और शहीद हुए सेनिको की पत्नियों  को भी लाभ मिल पाएगा।
  • पहली किश्त का भुगतान कर दिया गया है और दूसरी किश्त का भुगतान बाकि है।
  • इस योजना पर अनुमानित लागत 8000 से 10000 करोड़ रूपये है। जो समय के साथ बढ़ती जाएगी।  
  • सरकार ने पहले ही कहा है की जो सैनिक समय से पहले स्वेच्छा से रिटायर हो जाएँगे उन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिल पाएगा।  

इसे भी जरूर पढे : वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकरी प्राप्त करने के लिए क्लिक करे

वन रैंक वन पेंशन योजना के लाभ 

  • One Rank One Pension योजना के तहत जो भी सैनिक बहुत समय पहले रिटायर  हो चुके है ,जो सैनिक अब रिटायर होंगे उन सब को समान पेंशन का लाभ मिलेगा।
  • इस योजना  के द्वारा सैन्य कर्मियों के मध्य पेंशन की असमानता को खत्म कर दिया जाएगा।
  • यह योजना के तहत अगर किसी  सैनिक अधिकारी की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिजन को 30 प्रतिशत की जगह 60 प्रतिशत पेंशन दी जाएगी।
  • इस योजना के अनुसार जो लोग सिविल सर्विसेस मे है |  वे भी इस योजना का लाभ लेते हुये दोनों और से पेंशन ले सकते है।
  • One Rank One Pension योजना के तहत अगर अगर किसी सैन्य कर्मचारी की संतान मानसिक रूप से कमजोर है तो वे शादी के बाद भी इस योजना का लाभ ले पाएंगे।  
  • जो सैनिक रिटायर हो चुके हैं, उन्हें इस योजना के तहत एरियर भी मिलेगा। अभी लगभग 14 लाख सैनिक और अफसर सेना का हिस्सा हैं।
  • इसके तहत  रिटायर हो चुके सैनिकों को इस योजना से लाभ होगा,खासतौर पर उन सेनिको को जो  2006 से पहले रिटायर हो चुके है।
  • इस योजना के अंतर्गत रिटायर सैनिकों को एक रैंक पर एक पेंशन देने का प्रावधान किया गया है। यह योजना का वास्तविक मतलब यह है कि  एक श्रेणी के सैनिक को एक पेंशन।

इसे भी जरूर पढे : प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए यंहा पर क्लिक करे |

निष्कर्ष

आज हमने आपको इस लेख में सरकार के द्वारा सेनिको के लिए शुरू की गई योजना वन रैंक वन पेंशन One Rank One Pension के बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। अगर आपको यह लेख पसंद पसंद आया है तो आप हमे अपनी राय कमेंट बॉक्स में बता सकते है, इस जानकारी को दुसरो के साथ भी शेयर करे, ताकि उन्हें भी पता चल सके।

Join our Subscriber lists to get the latest news,updates and special offers delivered directly in your inbox

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here