Advertisement

यदि आप भी अपने शेक्षणिक या जरूरी ऑरिजनल दस्तावेज़ों को कही पर भी ले जाने से डरते हो या आपको अपने दस्तावेज़ों के खोने का डर रहता है,तो ऐसे में आप केंद्र सरकार के द्वारा शुरू की गई की डिजिटल लॉकर स्कीम आपकी काफी मदद कर सकती है। इस स्कीम के तहत आप अपने सभी शैक्षणिक दस्तावेज़, पहचान और पते का प्रमाण यहां सुरक्षित रख सकते हैं।

अगर आप कही पर भी जॉब के लिए इंटरव्यू देने जा रहे हैं, तो आप वहां पर डिजिलॉकर का एक लिंक दे सकते हैं। जिससे आपके दस्तावेज़ों की जांच आसानी से हो जाएगी। आपको कही पर भी अपने साथ ऑरिजिनल सर्टिफ़िकेट ले जाने की जरूरत नहीं है।

Advertisement

डिजिलॉकर क्या है ? Digilocker Kya Hai

डिजिलॉकर Digi Locker योजना भारत सरकार की डिजिटल इंडिया Digital India स्कीम को बढ़ावा देने की  एक पहल है। डिजिलॉकर अपने जरूरी दस्तावेज़ों जैसे कि पैन कार्ड, पहचान पत्र, कॉलेज डिग्री, हाईस्कूल डिग्री, जन्म प्रमाण पत्र या किसी भी प्रकार का जरूरी दस्तावेज़ को सुरक्षित रखने की एक ख़ास जगह है।

यहां पर जरूरी दस्तावेज़ों की सॉफ्ट कॉपी को ऑनलाइन एक वेबसाइट या मोबाइल एप्लीकेशन पर सेव  कर सकते है. सरकार ने सॉफ्ट कॉपी को भी उतनी मान्यता दे ही है, जितनी एक हार्ड कॉपी को मिलती है। डिजिलॉकर का उपयोग करने के लिए आपके पास आधार कार्ड होना आवश्यक है क्योंकि डिजिलॉकर आपके आधार कार्ड से  लिंक होता है | डिजिलॉकर का उपयोग करने के लिए व्यक्ति को ई-साइन  e-sign की भी जरूरत पड़ती है।

समय के अनुसार प्रत्येक चीजों में बदलाव हो रहे है जिसका फायदा हमे लेना चाहिए | आज की डिजिटल दुनिया में आपके दस्तावेज़ आपके हाथ में हो या मोबाइल में सेव हो दोनों एक ही बात है।

DigiLocker Cloud Storage का मुख्य उद्देश्य ? 

डिजिटल लॉकर स्कीम का मुख्य उद्देश्य दस्तावेज़ों के कागजी रूप को कम करना है, ताकि बार बार आपको अपने दस्तावेज़ों को कही ले जाना न पड़े यही नहीं जॉब , एजेंसियों के बीच ई-दस्तावेज़ों के आदान-प्रदान का चलन बढ़ाना भी एक मुख्य उद्देश्य है।

इस डिजिलॉकर वेब पोर्टल की मदद से आप ई-दस्तावेज़ों का आदान-प्रदान पंजीकृत कोष के माध्यम से आसानी से कर सकते है। जिससे ऑनलाइन दस्तावेज़ों की प्रामाणिकता सुनिश्चित होगी कोई भी व्यक्ति जो इस योजना का लाभ लेना चाहता है वे अपने दस्तावेज़ को स्कैन कर वेबसाइट पर अप-लोड कर सकते हैं।

इसके साथ ही डिजिटल ई-साइन सेवा का उपयोग कर उन पर हस्ताक्षर कर सकते हैं. इन सभी  डिजिटल हस्ताक्षर वाले दस्तावेज़ों को सरकारी संगठनों या अन्य संस्थाओं के साथ साझा किया जा सकता है।

डीजी लॉकर के कुछ मुख्य लाभ 

  • डीजी लॉकर की वजह से अब आपके दस्तावेज़ों के साथ फ्रॉड होने की सम्भावनाये कम हो जाएगी  डीजी लॉकर की मदद से अब  कोई भी व्यक्ति अपना डाटा  यानी की दस्तावेज़ों को सुरक्षित रख सकता है। डिजिलॉकर पब्लिक वाई फाई में एक्सेस नहीं होता है यानी की पब्लिक वाई फाई के माध्यम से आप इसका इस्तेमाल नहीं कर सकते है। इसके माध्यम से डाटा का प्रोसैस मैनेजमेंट सभी सुरक्षित है और इसे आप किसी भी ऐसे  व्यक्ति के साथ शेयर नही कर सकते है जिसका आपसे कोई संपर्क नही है।
  • डीजी लॉकर (Dig Locker)  की  मदद से आप अपने दस्तावेज़ संबंधी कामों को बड़ी ही आसानी से करवा सकते है। जिसकी वजह से आपका काम जल्दी और तेजी से हो सके जिस प्रकार अगर आप अपना पैन कार्ड बनवाना चाहते है, तो इसका सबसे कम समय दो  हफ्ते है, लेकिन अगर आप इसे किसी एजेंट को एक्स्ट्रा पैसे देकर बनवाना चाहते है, तो आप डीजी लॉकर (Digi Locker) की मदद से डिजिटल सिग्नेचर करके इसे खुद ही तुरंत बनवा सकते है।
  • डिजिलॉकर में कभी भी दस्तावेज़  ख़राब नहीं होंगे।
  • डिजिटल लॉकर का एक सबसे बड़ा फायदा यह है कि जो डॉक्यूमेंट डिजिलॉकर  में सेव हो गए वो कभी नही खो सकते है। आप जब चाहे अपनी मर्ज़ी से इनका इस्तेमाल कर सकते है।
  • डिजिलॉकर लॉकर में दस्तावेज़ों को सेव करने के बाद आप दुनिया में कही पर भी जाकर इनका इस्तेमाल कर सकते है। डिजि लॉकर सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं में मान्य है, क्योंकि डिजी लॉकर केंद्र सरकार के द्वारा शुरू की गई एक योजना है। आपको सरकारी ऑफ़िस में भी अपने दस्तावेज़ों की फोटो कॉपी देने की जरूरत नही है। आप अपने डॉक्यूमेंट की सॉफ्ट कॉपी ईमेल करके भी अपना कार्य करवा सकते है।

इसे भी जरूर पढे : मेक इन इंडिया अभियान क्या है | पूरी जानकारी हिन्दी

डिजिलॉकर की कुछ मुख्य विशेषताएँ 

  • डीजी लॉकर (DigiLocker) का इस्तेमाल केवल वही लोग कर सकते है जिनके पास खुद का आधार कार्ड है,  क्योंकि डिजिलॉकर आपके आधार कार्ड से लिंक होता है।
  • आप डिजिलॉकर का इस्तेमाल भी तभी कर पाओगे अगर आपका मोबाइल नंबर और ईमेल आई-डी आपके आधार कार्ड से  लिंक है।
  • अगर आपके आधार कार्ड में  वह मोबाइल नंबर रजिस्टर नहीं है। जिसका इस्तेमाल आप कर रहे है तो आपको सबसे पहले अपने आधार कार्ड का रजिस्टर मोबाइल नंबर बदलवाना होगा तभी आप डिजिलॉकर का इस्तेमाल कर पाओगे।
  • अभी डिजी लॉकर (Digi Locker) का इस्तेमाल करने वाले यूज़र को सिर्फ 10 MB  का स्पेस ही दिया जाएगा। जिसमे वह अपने जरूरी दस्तावेज़ों को अप-लोड कर सकता है।  

इसे भी जरूर पढे : गोल्ड लोन क्या है ? इसका फायदा कैसे ले ?

आपका डिजिलॉकर अकाउंट कितना सुरक्षित है ? 

अगर हम ड‍िजी लॉकर (Digi Locker) की सुरक्षा (security) की बात करें तो आपके लिए ड‍िजी लॉकर (Digi Locker) उतना ही सुरक्षित है  जितना कि  हमारा बैंक अकाउंट (bank account) , नेट बैंकिंग (Net banking) या फिर मोबाइल वॉलेट अकाउंट digi locker में अकाउंट बनाते समय  हमें एक यूज़र आई-डी (user id) और पासवर्ड (password) बनाना पड़ता है।

जोकि प्रत्येक यूज़र का अपना अलग आई-डी पासवर्ड होता है | उसके बाद हमें अपने अकाउंट को आधार कार्ड और मोबाइल नम्बर से भी जोड़ना पड़ता है ताकि जरूरत पड़ने का इसका उपयोग किया जा सके | इन सभी प्रकिया को  करने के बाद ही आप ड‍िज‍ि लॉकर (digi locker) मे अपना अकाउंट (account) बना सकते है 

इसे भी जरूर पढे : राशन कार्ड बनवाना अब हुआ और भी आसान आप भी जल्द ही बनवाए

डिजिलॉकर अकाउंट कैसे बनाये ?

डिजिलॉकर Digilocker की वेबसाइट और मोबाइल एप्लीकेशन दोनों मौजूद है आप अपनी सुविधा के अनुसार दोनों में से किसी का भी इस्तेमाल कर सकते है अकाउंट बनाने का प्रोसेस वेबसाइट और एप्लीकेशन दोनों में समान है।

यहां पर हमको वेबसाइट के माध्यम से डिजिलॉकर अकाउंट बनाना सिखा रहे है 

  1. डिजिलॉकर अकाउंट बनाने के ल‍िए सबसे पहले आपको डिजिलॉकर की ऑफिसियल वेबसाइट  पर जाना होगा।
  1.  उसके बाद वेबसाइट के दाईं ओर आपको दो विकल्प नजर आयंगे signup और signin अगर आपने डिजिलॉकर में पहले से अकाउंट बनाया हुआ है तो आपको signin के विकल्प पर क्लिक करना होगा, परन्तु अगर आपने अभी तक अपना अकाउंट नहीं बनाया है तो आपको signup पर क्लिक करना होगा,।
  1.  signup पर क्लिक करने के बाद आपको यहाँ पर अपना आधार कार्ड नंबर भरना है।
  1. आधार कार्ड का नम्बर भरने के बाद आपके उस मोबाइल नम्बर पर एक ओटीपी भेजा जाएगा। जो आपके आधार कार्ड से रजिस्टर है वो ओटीपी यहां पर भरना है।
  1. ओटीपी भरने के बाद आपको 6 अक्षरों का अपना एक सुरक्षित पिन बनाना होगा। पिन ऐसा होना चाहिए जो आपके याद भी रहे जिसका इस्तेमाल डिजिलॉकर अकाउंट को खोलने में किया जाएगा।

अब आपका डिजिलॉकर अकाउंट बनकर तैयार है अब आप इसमें अपने जरूरी दस्तावेज़ अपलोड कर सकते है।

इसे भी जरूर पढे : एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस क्या है इसका किस प्रकार फायदा उठाये

डिजिलॉकर में दस्तावेज़ कैसे अपलोड करे Digilocker Me Document Kaise Upload Kare

  • सबसे पहले डिजिलॉकर की ऑफिसियल वेबसाइट को ओपन कर ले और दाईं  साइड  में दिए गए sign in पर क्लिक करे।
  • अब यहां पर आपको यूज़र का आधार नम्बर भरना है। आधार नम्बर भरने के बाद आपके उस मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा जो आपके आधार कार्ड से लिंक है।
  • अब यहां पर आपको अपना सिक्योरिटी पिन भरना है। पिन भरने के बाद आप डिजिलॉकर की वेबसाइट पर विजिट कर जाओगे।
  • अब यहां पर अपलोड डाक्यूमेंट्स पर क्लिक करके आप अपने जरूरी दस्तावेज़ डिजिलॉकर में सेव कर सकते है। आप अपनी सुविधा के अनुसार डाक्यूमेंट्स के अलग लग फोल्डर भी बना सकते है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने आपको डिजिलॉकर के बारे में स्टेप बाई स्टेप जानकारी दी है। कि डिजिलॉकर क्या है Digilocker kya hai डिजिलॉकर अकाउंट कैसे बनाये Digilocker Account Kaise Banaye , Digilocker Me Document Kaise Upload Kare और आप इसका इस्तेमाल किस प्रकार कर सकते है। डिजिलॉकर को इस्तेमाल करने के क्या क्या फायदे है। डिजिलॉकर में अकाउंट बनाने के लिए आपको किन किन दस्तावेजों की जरूरी होगी। जिसकी वजह से आपका अकाउंट सुरक्षित रहे।

अगर आप भी अपने दस्तावेज़ों को सुरक्षित रखना चाहते है, तो आप इस योजना का लाभ उठा सकते हो। अगर आपको ये आर्टिक्ल अच्छा लगा हो तो इसे दुसरो के साथ भी शेयर करे, ताकि उन्हें भी इस योजना के बारे में पता चल सके अगर आपका डिजिलॉकर से संबंधित किसी प्रकार का सवाल है, तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते है। धन्यवाद

Join our Subscriber lists to get the latest news,updates and special offers delivered directly in your inbox

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here