Padhna Likhna Abhiyan
Padhna Likhna Abhiyan
Advertisement

कुछ वर्षों पहले अनपढ़ लोगों को साक्षर बनाने के लिए सरकार द्वारा साक्षर भारत मिशन अभियान की शुरुआत की थी , लेकिन अब वह अभियान बंद हो चुका है। अब इसकी जगह सरकार ने एक नई योजना की शुरुआत की है जिसका नाम है। पढ़ना लिखना अभियान


इस अभियान को शिक्षा विभाग की देखरेख में शुरू किया गया है। इस अभियान को साक्षर भारत मिशन का द्वितीय चरण भी माना जा रहा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए केंद्र सरकार ने स्कूली अध्यापक और साक्षरता विभाग से जुड़े अधिकारियों के साथ एक बैठक भी की है।

Advertisement

इस लेख मे हम आपको पढ़ना लिखना अभियान से जुड़ी सभी जानकारी शेयर करने वाले है। अगर आप भी इस अभियान के बारे मे जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो लेख को अंत तक पढे इस लेख मे हम आपको बताने वाले है कि पढ़ना लिखना अभियान क्या है ? Padhna Likhna Abhiyan Kya Hai

पढ़ना लिखना अभियान Padhna Likhna Abhiyan 2022

पढ़ना लिखना अभियान की शुरुआत राजस्थान सरकार की और से की गई थी यह एक राज्य स्तरीय योजना है। इस योजना का शुभारंभ बिड़ला ऑडिटोरियम में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने किया था।

जब साक्षर भारत अभियान की शुरुआत हुई थी। तब इसकी लिमिट केवल कक्षा तीन तक थी, लेकिन अब दोबारा से शुरु किये अभियान मे सभी आयु के विधारथियों को जोड़ा गया है। ऐसे मे जो भी व्यक्ति किसी कारणवश शिक्षा से वंचित रह गया था वे इस अभियान से शिक्षा प्राप्त कर सकते है। इस अभियान के द्वारा पढ़ने वाले विधारथियों को लोक शिक्षा केंद्रों और विभाग की ओर तय की गई जगहों पर शिक्षा दी जाएगी। इसे भी पढे :- सरकार अब देगी युवाओ को बिजनेस करने की ट्रेनिंग

इस योजना मे 15 साल से 80 साल तक कोई भी शिक्षा प्राप्त कर सकता है जिसके लिए उन्हे अपने तय समय मे रोजाना क्लास लेनी होगी। उसके बाद ही वे परीक्षा मे बैठ सकेंगे।
इस योजना के उद्देश्य राज्य मे ज्यादा से ज्यादा युवाओ को शिक्षा प्रदान करना है ताकि वे आसानी से अपने बिजनेस का हिसाब भी लगा सके। उत्तर प्रदेश सरकार ने छात्रों को मुफ़्त कोचिंग देने के लिए शुरू की अभ्युदय योजना

पढ़ना लिखना अभियान’ 2030 का लक्ष्य

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने 54वें अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर पढ़ना लिखना अभियान को अपडेट करके से वर्ष 2023 तक आगे बढ़ाया हैं। पढ़ना लिखना अभियान का मुख्य उदेश्य देश के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में अधिक आयु वाले वयस्क लोगों को साक्षर बनाना हैं।

Padhna Likhna Abhiyan 2022 लाभ देश के नुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और दूसरी पिछड़ी हुई जाती के महिला और पुरुष दोनों को मिलेगा। पढ़ना लिखना अभियान के तहत सबसे पहले उन देश के उन जिलों को चुना जायेगा। जहां पर महिला साक्षरता दर 60 फीसदी से कम हैं। यह भारत को पूर्ण साक्षर बनाने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा हैं। जिससे देश के आत्मनिर्भर भारत अभियान को भी आगे बढ़ने में मदद मिलेगी।

जिला स्तर पर राजस्थान मे निरक्षर लोगों के आँकड़े

जिले का नाम आँकड़े जिले का नाम आँकड़े
सिरोही 333000धौलपुर 16800
करौली 30200उदयपुर 15500
बारा 28500टोंक 16000
नागौर 28300जसलमैर 14500
जयपुर 21000जोधपुर 12500
अलवर18900बांसवाड़ा 13100
जालौर 19500चित्तौड़गड 12500
पाली20000बीकानेर 12200
बूंदी 9800श्री गंगानगर 7300
बाड़मेर 9700हनुमान6600
अजमेर 8000झालावड़ 6500
कोटा 8000सीकर 6800
डूँगेरपुर 7500प्रतापगड़ 6400
भीलवाडा 64500चुरू 6000
राजसमंद 6000झुंझुनू 5700
भतरपुर 4800सवाईमाधोपुर 4200
दौसा 4100

पढ़ना लिखना अभियान से जुड़ी कुछ अहम बाते

  • ज्यादा से ज्यादा लोगों को साक्षर बनाने के लिए राजस्थान सरकार ने इस अभियान मे मुख्यत महिलाओ अनुसूचित जाति , अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़े वर्ग को जोड़ा है।
  • इस अभियान के तहत राजस्थान के उन जिलों पर ज्यादा ध्यान रखा जाएगा जिसमे महिला साक्षरता दर 60 प्रतिशत से कम है| लोगों को साक्षर बनाने के लिए मुख्यत इस अभियान के तहत चार माह के चक्र मे बुनियादी साक्षरता पर केंद्रित है। इसे भी जरूर पढे :- आर्थिक तंगी से जूझ रहें छात्रों के लिए सरकार ने शुरू की विद्यासारथी स्कॉलरशिप
    इस अभियान मे ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों के लोगों को जोड़ा जाएगा।
  • इस अभियान को सफल बनाने के लिए स्कूल कॉलेज के छात्रों , बीटीसीई या डीएलईडी , एनएसएसएनवाई के एस से जुड़े हुए छात्रों की भी सहायता ली जाएगी।
  • इस अभियान के तहत अधिक आयु वाले छात्रों के लिए बुनियादी साक्षरता मूल्यांकन राष्ट्रीय मुक्त विधालय संस्थान एनआईओएस द्वारा वर्ष मे तीन बार परीक्षा ली जाएगी।

इसे भी जरूर पढे : प्रधानमंत्री युवा योजना के तहत पीएम मोदी ने दिया लेखको को बढ़ा तोहफा

पढ़ना लिखना अभियान के फायदे

  • इस अभियान तहत राजस्थान मे शिक्षा की दर को बढ़ावा मिलेगा।
  • अगर यह अभियान सफल हो रहता है तो आने वाले वर्ष 2030 तक राजस्थान की शिक्षा दर 70 से 80 प्रतिशत तक पहुच सकती है।
  • इस अभियान के शुरू होने से 15 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों को मुफ्त में बुनियादी शिक्षा मिल सकेगी। जिसका फायदा उन्हे अपने बिजनेस के कामों मे भी मिलेगा।
  • अगर यह अभियान राजस्थान मे सफल रहता है तो दूसरे राज्य भी इस अभियान से प्रेरित होकर इस अभियान की शुरुआत अपने राज्यों मे भी कर सकेंगे।

इसे भी जरूर पढे :- उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए मोदी सरकार ने देश अल्पसंख्यक विधारथियों के लिए शुरू की स्कॉलरशिप योजना

निष्कर्ष

इस लेख मे हमने आपको लोगों को ज्यादा से ज्यादा साक्षर बनाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई योजना के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी दी है। इस लेख में हमने आपको बताया हैं कि पढ़ना लिखना अभियान क्या हैं Padhna Likhna Abhiyan Kya Hai विधार्थी पढ़ना लिखना अभियान का लाभ कैसे लें सकते हैं। अगर आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई है, तो आप अपनी राय हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इस जानकारी को दूसरे लोगों के साथ भी जरूर शेयर करे। ताकि उन्हे भी इस योजना के बारे मे जानकारी मिल सके धन्यवाद

Join our Subscriber lists to get the latest news,updates and special offers delivered directly in your inbox

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here