e rupi Digital Payment
e rupi Digital Payment
Advertisement

डिजिटल तकनीक ने लोगों के काम करने के तरीके को बेहद आसान बना दिया है फिर चाहे कोई सा भी क्षेत्र हो दुनिया मे आज के समय मे कोई सा भी ऐसा क्षेत्र है जहा पर डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि शिक्षा , हेल्थ, रेलवे, स्पोर्ट्स, परिवहन, एयर पोर्ट ,बैंकिंग 

डिजिटल बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, को डिजिटल तकनीक ने बेहद आसान बना दिया है इसलिए अगर आप देखोगे कि आज के समय मे आप मोबाइल के माध्यम से ही अपने बैंक से जुड़े कार्य घर बैठे कर लेते है इससे लोगों के समय की काफी बचत होती है यही कारण है कि मार्केट मे ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए अलग अलग प्लेटफ़ॉर्म लांच हो चुके है जैसे कि पेटीएम , फोन पे , गूगल पे , भीम ऐप , भारत पे ऐप इत्यादि।  

Advertisement

डिजिटल पेमेंट को और भी आसान बनाने के लिए भारत सरकार ने एक नई मोबाइल बैंकिंग ऐप लांच की है। जिसकी जानकारी हम आपको इस लेख मे विस्तार से देने वाले है।

अगर आप भी डिजिटल लेंन देंन करते है, तो आपको इस ऐप के बारे मे जरूर जानना चाहिए इसको कैसे इस्तेमाल किया जाता है। इसका पता भी आपको होना चाहिए ताकि भविष्य मे आपको इस्तेमाल करनी की जरूरत हो सके। 

इस लेख मे हम आपको बताने वाले है कि ई-रुपी क्या है  e rupi Digital Payment App Kya Hai ई-रुपी का उपयोग कैसे करे।  

e rupi Digital Payment

देश के वर्तमानप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अगस्त को e-RUPI ऐप को वीडियो  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लॉन्च किया। था। e-RUPI एक पर्सन और पर्पज स्पेसिफिक डिजिटल पेमेंट सॉल्युशन (Digital Payment Solution) है। 

इस ऐप को इस्तेमाल  सर्वप्रथम मुंबई के एक युवा ने कोविड 19 वैक्सिनेशन सेंटर पर इसके जरिए पेमेंट करके सफल ट्रायल किया।   

e-RUPI इलेक्ट्रॉनिक वाउचर ऐप है जिसका इस्तेमाल लाभार्थी  केशलेस भुगतान करने के लिए कर सकते है इस ऐप का उद्देश्य देश मे डिजिटल लेंन देन को बढ़ाकर केशलेश बनाना है 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने यह भी जानकारी दी है कि इस ऐप के माध्यम से सरकारी योजनाओ का लाभ लेने वाले लाभार्थियों को सीधे मदद मिलेगी उन्हे किसी बिचोंलियो की जरूरत नहीं होगी ।  

e-RUPI प्रीपेड ई-वाउचर डिजिटल पेमेंट ऐप है जिसे NPCI यानि कि  नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने शुरू किया है  उसने  इस ऐप को बनाने के लिए वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण की भी मदद ली है  ताकि डिजिटल पेमेंट को आसान बनाया जा सके।  

e-RUPI कैसे करता है

प्रधानमंत्री के माध्यम से दी गई जानकारी के मुताबिक इस ऐप का लाभ लेने वाले लाभार्थी अपने स्मार्टफोन से क्यूआर कोड स्कैन करके sms के जरिए इलेक्ट्रॉनिक बाउचर प्राप्त कर सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक बाउचर का लाभ लेने के लिए लाभार्थियों को कार्ड, डिजिटल पेमेंट्स  ऐप  या इंटरनेट बैंकिंग का होना जरूरी नहीं है।  

उदाहरण से इसे बाउचर का इस्तेमाल समझते है 

मान लीजिए आपने इस ऐप के जरिए किसी प्रोडक्ट की खरीदारी की , आपको बाउचर मिल गया तो आपको इसकि हार्ड कॉपी की जरूरत नहीं है बाउचर का इस्तेमाल आप अपने मोबाइल फ़ोन से क्यू आर कोड का इस्तेमाल करके भी ले सकते है 

ई-रुपी, के माध्यम से यूजर्स अलग अलग सेवाओ मे बिना किसी केश के डिजिटल तरीकों से पेमेंट्स कर सकते है 

यूजर्स ऑनलाइन पेमेंट्स के दौरान मिलने वाले बाउचर का इस्तेमाल करने के लिए उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक सीक्रेट कोड भेजा जायेगा इस कोड को फिल करने के बाद ही आप बाउचर को रिडीम कर सकते है 

e rupi Digital Payment के लाभ 

  • e rupi Digital Payment App है,जिसे पूरी तरह से कैशलेस व कॉन्टेक्टलेस बनाया गया है 
  • डिजिटल करेंसी  के रूप मे यह भारत का पहला कदम है 
  • ई-रूपी कैशलेस और डिजिटल पेमेंट्स मोबाइल बैंकिंग ऐप है जो एसएमएस स्ट्रिंग या एक क्यूआर कोड के रूप में बेनेफिशयरीज उपयोग किया जाता है 
  • e-RUPI  एक गिफ्ट बाउचर की तरह इस्तेमाल किया जाता है जिसके माध्यम से यूजर्स बिना किसी डेबिट या क्रेडिट  कार्ड ,मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग से रिडीम कर सकते है 
  • इस ऐप के माध्यम से लाभार्थियों को सरकारी योजनाओ का सीधा लाभ मिलेगा ताकि योजनाओ के माध्यम से होने वाले दुरुपयोग  को रोका जा सके 
  • ई रूपी डिजिटल बैंकिंग के माध्यम से सेवा देने और लेने वालों को सीधे तौर पर जोड़ता है।

e-RUPI का कहां-कहां हो सकता है इस्तेमाल

  • मदर एंड चाइल्ड वेलफेयर स्कीम, 
  • टीबी इरैडिकेशन प्रोग्राम 
  • आयुष्मान भारत 
  • प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना 
  • वेलफेयर एंड कॉर्पोरेट 
  • सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी प्रोग्राम 

Join our Subscriber lists to get the latest news,updates and special offers delivered directly in your inbox

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here